Monthly Archives: December 2014

  • 08FL_NOORANI_GODSE_1337247g
    गोड़से के महिमामंडन का पुनरूत्थान
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    –राम पुनियानी– समय बदल रहा है और इस परिवर्तन की गति काफी तीव्र है। पिछले कुछ दशकों में अधिकांश हिन्दू राष्ट्रवादियों को अपने नायक नाथूराम गोड़से के प्रति अपने प्रशंसाभाव को दबा-छिपाकर रखने की आदत-सी पड़ गई थी। कभी कभार, कुछ कार्यक्रमों में उसका गुणगान किया जाता था परंतु ऐसे कार्यक्रम बहुत छोटे पैमाने पर […]

  • Modi_1305265g
    जनाब मोदी मिस्टर जिन्ना से क्या सीख सकते हैं ?
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    -सुभाष गाताडे – चन्द अख़बारों ने प्रधानमंत्राी मोदी द्वारा पिछले दिनों दी इस्तीफे की ‘धमकी’ के बारे में समाचार को सांझा किया है। सूत्रों के अनुसार उन्होंने कहा है कि अगर ‘परिवार’ के अन्दर ऐसे भडकाउ तत्वों पर काबू नहीं किया गया तो वह अपने पद को छोड़ सकते हैं। संघ नेताओं के साथ अपनी […]

  • 0023ae731d750ea357cf2a
    धार्मिक कट्टरता पर दृष्टिपात का समय
    Posted in: धर्म, सांप्रदायिकता

    – वीरेन्द्र जैन – कट्टरता किसी भी तरह की हो, लोकतंत्र विरोधी होती है। वह दूसरों के विचारों को सुनना भी पसन्द नहीं करती। हमारे देश में जन्मे दो एक दर्शनों को छोड़ कर धार्मिक कट्टरता बहुत प्राचीन, संगठित और हिंसक रही है। दुनिया का इतिहास और पुराण इसी कट्टरता से जन्मी हिंसा की कहानियों […]

  • मध्य प्रदेश – भगवा मंसूबों का गढ़
    मध्य प्रदेश – भगवा मंसूबों का गढ़
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    – जावेद अनीस – मध्य प्रदेश को अमूमन शांति प्रदेश माना जाता है, लेकिन यह सूबा वंचित समुदायों के उत्पीड़न के मामलों में कई वर्षों से लगातार देश के कुछ सबसे खराब राज्यों के सूची में दर्ज होता आया है। एक दशक से ज्यादा बीजेपी के हुकमत के दौर में संघ परिवार ने भी इस […]

  • ghar wapsi
    क्या बीजेपी के मुस्लिम नेताओं की होगी घर वापसी ?
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    – विवेकानंद – राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, भारतीय जनता पार्टी, विश्व हिंदू परिषद, हिंदू जागरण मंच और इस तरह के वे तमाम संगठन जो धर्म परिवर्तन के खिलाफ सख्त कानून की मांग कर रहे हैं, उनका समर्थन किया जाना चाहिए। बशर्ते इसका इस्तेमाल अल्पसंख्यकों को प्रताडि़त करने के लिए हथियार की तरह इस्तेमाल न किया […]

  • school kids
    सफेद खून, काली करतूत
    Posted in: आंतंकवाद

    – अख़लाक़ अहमद उस्मानी – खोला अल्ताफ का वह स्कूल का महज दूसरा दिन था। पांच बरस की खोला को छुट््टी की तलब थी, ताकि वह अपनी मां से जा मिले, लेकिन उससे पहले ही आठ दरिंदे वहां आ पहुंचे। जिन एक सौ बत्तीस बच्चों को वहशी वहाबी दरिंदों ने पेशावर के आर्मी पब्लिक स्कूल […]

  • जबरदस्ती धर्मपरिवर्तन से किस तरह अलग है घरवापसी ?
    जबरदस्ती धर्मपरिवर्तन से किस तरह अलग है घरवापसी ?
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    –राम पुनियानी हाल (10 दिसंबर 2014) में आगरा में आयोजित एक कार्यक्रम में फुटपाथ पर रहने वाले और कचरा बीनने वाले लगभग 350 लोगों को मुसलमान से हिंदू बनाया गया। उनसे यह वायदा किया गया था कि यदि वे कार्यक्रम में भाग लेंगे तो उन्हें राशन कार्ड व बीपीएल कार्ड उपलब्ध करवाए जायेंगे। यह कार्यक्रम, […]

  • rampal-l1
    रामपाल प्रकरण का दूसरा आयाम
    Posted in: विशेष, समाज

    – वीरेन्द्र जैन –        पता नहीं कि इसे सौभाग्य कहा जाये या दुर्भाग्य कि जब देश में मीडिया की संख्या बहुत बढ गयी है तब उसकी गुणवत्ता उतनी ही घटती जा रही है। जिसे जनता की आवाज़ बनना था वह मुख्यधारा का मीडिया सरकारों का भौंपू बन कर रह गया है, जिसमें वही सब […]

  • Hindu-Mahasabha-Re-L
    अब गोडसे का महिमा-मण्डन
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    –दिव्या शर्मा — हिन्दू महासभा द्वारा महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का जन्मदिन मनाना, उसके अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश  कौशिक  द्वारा दिल्ली में गोडसे की मूर्ति स्थापित करने के लिये सरकार से जगह उपलब्ध कराने के लिये पत्र लिखना, भाजपा सांसद साक्षी महाराज द्वारा नाथूराम गोडसे को देशभक्त  बताना और इस पर भारत सरकार और उसके […]

  • s-SHAMI-WITNESS-large
    सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से पसरता आतंकवाद
    Posted in: आंतंकवाद

    – डॉ. महेश परिमल – भारत में अपने पांव पसारता आतंकवाद के पीछे स्लीपर यूनिट्स जवाबदार है, ऐसा बार-बार कहा जाता है। पाकिस्तान प्रेरित आतंकवाद ऐसे स्लीपर यूनिट्स के कारण उसके हमले सफल हुए हैं, यह भी देखने में आया है। अब इस स्लीपर यूनिट्स नए स्वरूप में हमारे सामने आया है। प्रो. इस्लामिक स्टेट […]

  • Achhe Din
    अच्छे नहीं यह बुरे दिनों की आहट है
    Posted in: आर्थिक जगत, राजनीति

    — विवेकानंद — नवंबर महीने में महंगाई की दर 0.0 प्रतिशत पर जा पहुंची तो ,एक न्यूज चैनल की वेबसाइट पर खबर चली ‘बहुत मारती थी महंगाई, मर गई’। इसी खबर में लिखा है कि चीनी, खाद्य तेल, कोल्ड ड्रिंक वगैरह और सीमेंट वगैरह के दाम नवंबर में 2.04 प्रतिशत गिरे, इसका मतलब है कि […]

  • Conversion
    धर्म एक मौलिक अधिकार है।
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    — दिग्विजय सिंह — भारत अनेक  धर्मों और जातियों का देश है और उसकी ताकत “विविधता में एकता” में निहित है। जब भारत आजाद हुआ तो बंटवारे के समय पाकिस्तान ने एक धार्मिक राज्य  होना स्वीकार किया और हमने एक धर्मनिरपेक्ष राज्य को अपनाया। धर्मनिरपेक्षता हमारे संविधान में प्रतिष्ठापित है। धर्मनिरपेक्षता का अर्थ क्या है? हमारे लिए […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in