Monthly Archives: May 2015

  • ek-saal-desh-badhaal-1
    मोदी सरकार का पहला साल नफरत फैलाने के नाम
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    —–राम पुनियानी—— नरेन्द्र मोदी के सत्ता में आते ही मानों आरएसएस के सभी संगी-साथियों को धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ नफरत फैलाने का लाईसेंस मिल गया है। जहर उगलने के इस अभियान का उद्देश्य सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को बनाये रखना है। एमआईएम के अकबरुद्दीन ओवेसी का घृणा फैलाने वाला भाषण निश्चित तौर पर घिनौना था और इस […]

  • Modi Amit Shah
    क्या गुजरात एक अलग देश है?
    Posted in: राजनीति

    —-वीरेन्द्र जैन—– जिन महात्मा गाँधी को देश की आज़ादी का सबसे बड़ा सिपाही माना गया है और जिन सरदार वल्लभ भाई पटेल को भारत में राज्यों के विलीनीकरण की महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के कारण देश का सबसे बड़ा आर्कीटेक्ट माना जाता है वे गुजरात के थे, पर उन्होंने कभी सपने में भी स्वतंत्र गुजरात की […]

  • aruna then n now
    अरुणा ! हम पर लानत है……
    Posted in: न्यायपालिका, महिला

    —-डाॅ. गीता गुप्त—- 18 मई 2015 को अरुणा शानबाग का देहान्त हो गया। मुम्बई के किंग एडवर्ड मेमोरियल अस्पताल में  नर्स के रूप में  कार्यरत् अरुणा की मौत वैसे तो 42 वर्ष पूर्व तभी हो गई थी, जब वार्ड बाॅय ने 27 नवम्बर 1973 की रात उनके साथ जघन्य दुराचार किया। अस्पताल में  ड्यूटी पूरी […]

  • maggi
    मेगी नूडल्स से कमजोर हाेता देश का भविष्य
    Posted in: बच्चे, समाज, स्वास्थ जगत

    —- डॉ. महेश परिमल—- बहुत अच्छी लगती है मेगी। तुरंत बन भी जाती है। आधुनिक मांओं को इससे अधिक चाहिए भी क्या? वे तो यह भी नहीं जानती कि मेगी के पेकेट में यह भी लिखा है कि बच्चे को मेगी खिलाने के पहले उसे पौष्टिक चीजें भी खिलाना न भूलें। बच्चे भी जब घर […]

  • kalitakat
    काली ताकतों का एक वर्ष
    Posted in: राजनीति

    —-श्रीमती अल्का गंगवार—- भारतीय चेनलों पर सन् 2000 में Ghost Buster नाम से एक सीरियल प्रसारित होता था। उसकी एक कड़ी में घोस्ट बस्टर टीम को यह जानकारी मिलती है कि अगली एक सदी तक दुनिया पर दबदबा कायम रखने के लिये अच्छी और बुरी ताकतों के बीच स्थानीय स्टेडियम में क्रिकेट मैच का आयोजन किया […]

  • one-year-of-modi-government-a-look-back
    मोदी सरकार की पहली वर्षगांठ
    Posted in: राजनीति

    —-इरफान इंजीनियर—- नरेन्द्र मोदी ने 25 मई 2015 को प्रधानमंत्री के रूप में एक साल पूरा कर लिया। उन्होंने 26 मई 2014 को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। इस एक साल में मोदी की क्या उपलब्धियां रहीं, यह उतना ही विवादास्पद है जितना कि मोदी का व्यक्तित्व। जहां प्रधानमंत्री के समर्थक और अनुयायी यह […]

  • Tanu-Weds-Manu-2-A-real-sequel-Krishika-Lulla
    तनु वेड्स मनु रिटर्न्स:- झज्जर की बेटियों की भी कहानी
    Posted in: फिल्म समीक्षा

    जावेद अनीस भारतीयों के लिए सिनेमा मनोरंजन है, जिसके लिए उन्हें कम्प्रोमाइज़ भी करना पड़ता है तभी तो हमारी ज्यादातर सो काल्ड मनोरंजक फिल्मों में “अक्ल” का ध्यान नहीं रखा जाता है और मनोरंजन के नाम पर तर्कहीनता,स्टोरी की जगह स्टार, सेक्स,पागलपन की हद तक हिंसा, हीरोइन के जाघें और हीरो का सिक्स पैक परोसा […]

  • piku-poster2-embed
    पीकू- दृश्यों के पीछे की आधार कथा
    Posted in: फिल्म समीक्षा

    —-वीरेन्द्र जैन—- अगर मैं कोई फिल्म पहले दिन नहीं देखता तो खुद को उस पर समीक्षा लिखने का अधिकारी नहीं समझता हूं, किंतु पीकू इस मामले में अपवाद है। इस पर मैंने इसलिए लिखना चाहा क्योंकि पीकू में दीपिका पादुकोण और अमिताभ बच्चन के अच्छे अभिनय और पटकथा के बारे में विस्तार से बताती समीक्षाओं […]

  • aruna then n now
    और कितनी अरूणा शानबाग ?
    Posted in: महिला

    —-अंजलि सिन्हा—- अस्पताल के ही एक वार्डबाॅय – सोहनलाल वाल्मिकी – के हाथों बर्बर यौन अत्याचार की शिकार रही अरूणा शानबाग – जो मुंबई के विख्यात किंग एडवर्ड मेमोरियल हास्पिटल में, विगत 42 साल से कोमा में पड़ी थी, वह नहीं रही। अभी पिछले सप्ताह ही उसे न्यूमोनिया की शिकायत हुई थी और उसे वेंटिलेटर […]

  • one-year-of-modi-government-pms-reform-speed-is-rightly-slow-some-slogans-not-so-smart-opines-jagdish-bhagwati
    क्या हुआ तेरा वादा
    Posted in: राजनीति

    —-जाहिद खान—- भ्रष्टाचार और सरकारी कामकाज में पारदर्शिता लाने के मुद्दे पर बड़ी-बड़ी बातें करने वाली मोदी सरकार की कथनी और करनी में कितना फर्क है, यह अब एक साल पुरानी सरकार के कामकाज में साफ-साफ दिखलाई देने लगा है। भ्रष्टाचार पर रोकथाम तो दूर की बात है, अभी आलम यह है कि मुख्य सूचना […]

  • Govind Modi
    भाजपा के थिंक टैंकों में उबाल
    Posted in: राजनीति

    —-वीरेन्द्र जैन—– सत्ता की रिसन से प्यास बुझाने की तमन्ना रखने वाले हजारों जयजयकारी समर्थकों के विपरीत जब किसी दल के विचारवान लोगों की खनकती आवाज उभरती है तो वह सत्ताधीशों के कानों में सायरन की तरह गूँजने लगती है। यह आवाज जितनी निस्वार्थ होती है, इस की धार उतनी ही पैनी होती है। भाजपा […]

  • 22child5
    बालश्रम का कानूनीकरण
    Posted in: कानून, बच्चे

    —-जावेद अनीस—– भारत ने अभी तक संयुक्त राष्ट्र बाल अधिकार समझौते की धारा 32 पर सहमति नहीं दी है  जिसमें बाल मजदूरी को जड़ से खत्म करने की बाध्यता है।1992 में भारत ने संयुक्त राष्ट्र संघ में यह जरूर कहा था कि अपनी आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए हम बाल मजदूरी को खत्म करने का […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in