Monthly Archives: October 2015

  • moody
    मोदी के लिए मूडी के सदविचार !
    Posted in: आर्थिक जगत, करेंट अफेयर्स

    ———शैलेन्द्र चौहान——— संप्रति भारत में गोमांस खाने और अन्य सांप्रदायिक राजनैतिक मुद्दों पर फैले तनाव के संदर्भ में वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ‘मूडीज’ की विश्लेषण इकाई ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपनी पार्टी के सदस्यों पर लगाम लगाना चाहिए नहीं तो उनके लिए घरेलू और वैश्विक स्तर पर विश्वसनीयता खोने का खतरा […]

  • rajan4
    इतनी आसानी से पकड़ा गया हिंदू डॉन!
    Posted in: करेंट अफेयर्स

    ——-डॉ. महेश परिमल——– पिछले दिनों मीडिया में दोपहर बाद दो तरह के भूकंप आए। पहला तो अफगानिस्तान में आया भूकंप था, दूसरा भूकंप था, छोटा राजन के गिरफ्तार होने का। इस पर सहसा विश्वास नहीं होता। पर यह सच है कि छोटा राजन गिरफ्तार हो गया। उसकी गिरफ्तारी के बाद मीडिया में कहीं उसे ईमानदार और सच्चा डॉन बताया […]

  • Indian Judiciary
    सामाजिक न्याय और न्यायपालिका की भूमिका
    Posted in: न्यायपालिका

    ——–शैलेन्द्र चौहान——— इतिहास गवाह है कि शताब्दियों से मानव, सामाजिक न्याय प्राप्त करने के लिए निरंतर भटकता रहा है और इसी कारण दुनिया में कई युद्ध, क्रांति, बगावत, विद्रोह, हुये हैं जिसके कारण अनेक बार सत्ता परिवर्तन हुए हैं। अगर भारत की बात की जाये तो हमारा भारतीय समाज पहले वर्ण व्यवस्था आधारित था जो धीरे […]

  • earthquake05_3483381b
    भूकंप से निपटने की चुनौती
    Posted in: करेंट अफेयर्स, पर्यावरण

    ——-अरविंद जयतिलक——— पाकिस्तान व अफगानिस्तान समेत भारत के उत्तरी हिस्से में आए भीषण भूकंप में 250 से अधिक लोगों की मौत और अनगिनत लोगों का बुरी तरह घायल होना प्रमाणित करता है कि भूकंप से निपटने की चुनौती बरकरार है। भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के हिंदुकुश के पर्वत में था, इसलिए सर्वाधिक तबाही पाकिस्तान में […]

  • dadri-lynching-family-m1
    तीन कत्ल और पीट-पीटकर एक शख्स की हत्या
    Posted in: सांप्रदायिकता

    ——-राम पुनियानी——- प्रकृति के नियम, मानव समाज पर लागू नहीं किए जा सकते। परंतु कई बार इनका इस्तेमाल सामाजिक ज़लज़लों का कारण स्पष्ट करने या उनका औचित्य सिद्ध करने के लिए किया जाता है। ‘‘जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती कांपती है’’ (1984 के सिक्ख कत्लेआम के बाद) और ‘‘हर क्रिया की समान […]

  • logo-concept_1438528762
    बदलते परिदृश्य में भारत-अफ्रीका शिखर सम्मेलन
    Posted in: विदेश नीति, विश्व जगत

    ——-अरविंद जयतिलक——– बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच नई दिल्ली में 26 से 29 अक्टुबर तक होने जा रहे तीसरे भारत-अफ्रीका शिखर सम्मेलन पर दुनिया भर की निगाहें है। इस शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए पांच उप-क्षेत्रों में बंटे अफ्रीका के तकरीबन 40 से अधिक देशों ने भारत आने की पुष्टि कर दी है। […]

  • saat kahaniyaan
    समाज के चेहरे से मुखौटा नोचती कहानियां
    Posted in: किताब समीक्षा

    ——-स्निग्धा श्रीवास्तव——– व्यवस्था चाहे देश की हो, समाज की हो, राजनीति की हो या फिर घर, स्कूल से लेकर सभी छोटी-बड़ी इकाइयों की हो, अगर मामूली सी भी गड़बड़ी आई, तो पूरी व्यवस्था चौपट ही समझो। प्रसिद्ध पत्रकार, कहानीकार और उपन्यासकार दयानंद पांडेय की ‘व्यवस्था पर चोट करती सात कहानियां’ में यही बात उभर कर […]

  • lancet_india_201101-04
    प्रधानमंत्री मोदी ने स्वास्थ्य के मोर्चे पर भारत को विफल कर दिया है : लैंसेट स्टडी
    Posted in: स्वास्थ जगत

    ——बेतवा शर्मा—— चिकित्सा जगत की अग्रणीय पत्रिका “द लैंसेट” प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर अपनी एक रिपोर्ट के माध्यम से बड़ा हमला करने जा रही है। रिपोर्ट में मोदी के मई 2014 में सत्ता में आने के बाद से स्वास्थ्य को दरकिनार कर दिए जाने को लेकर उन्हें आड़े हाथों लिया गया है जबकि यह चेतावनी […]

  • UCC
    पर्सनल लॉ में सुधार लैंगिक समानता के लिए हो राष्ट्रीय एकीकरण के लिए नहीं
    Posted in: विशेष

    ——-इरफान इंजीनियर———- उच्चतम न्यायालय ने एक बार फिर केंद्र सरकार से कहा है कि वह शपथपत्र दाखिल कर बताये कि क्या वह देश में समान नागरिक संहिता (यूसीसी) लागू करेगी। शाहबानो मामले में, उच्चतम न्यायालय ने कहा था कि ‘‘यह खेद का विषय है कि संविधान के अनुच्छेद 41 को लागू नहीं किया जा रहा […]

  • Riots
    समाज को सुरसा की तरह निगलती सांप्रदायिकता
    Posted in: सांप्रदायिकता

    ——-जगजीत शर्मा——— देश के हालात दिनों दिन खराब होते जा रहे हैं। पंजाब पवित्र धर्म ग्रंथ की बेअदबी की आग में झुलस रहा है। हरियाणा में जातीय झगड़ों ने जड़ें जमा ली हैं। दलित और सवर्ण आमने-सामने आकर मोर्चा खोले हुए हैं। उत्तर प्रदेश धधक रहा है। मध्य प्रदेश के खरगोन में कफ्र्यू लगा हुआ […]

  • Digital India Claims
    ये डिजिटल इंडिया क्या बला है ?
    Posted in: विशेष

    —–योगेन्द्र सिंह परिहार——- भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने देश में एक नया शिगूफा  छोड़ रखा है डिजिटल इंडिया । बहुत दिनों से मेरे मन में ये सवाल आ रहा था कि ये डिजिटल इंडिया क्या बला है। डिजिटल के माने यदि वृहद संदर्भ में देखा जाए तो कम्प्यूटर और मोबाईल के उपयोग से […]

  • Mohan Bhagwat
    बड़े होते सवाल और सच होते अन्देशे
    Posted in: करेंट अफेयर्स

    ——-कृष्ण प्रताप सिंह——– राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर में अपने सालाना दशहरा संबोधन में ‘कुछ छोटी मोटी घटनाओं के बावजूद’ नरेन्द्र मोदी को जो प्रमाणपत्र दिया है, वह मोदी सरकार की दशा व दिशा को लेकर देशवासियों के सवालों को और बड़ा ही करेगा। इस तथ्य के मद्देनजर तो और भी […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in