मानवता के लिए घातक है-गिध्दों का विलुप्त होना !

3:33 pm or June 9, 2014
0906201412

डॉ. सुनील शर्मा-

प्रकृति ने मानव के द्वारा फैलाई गई गंदगी को साफ करने का कार्य तीन जीवों के हवाले किया है। और वो तीन जीव हैं- गिध्द, कौआ और कुत्ता! ये तीनों प्राणी अनवरत रूप कुदरती सफाईकर्मी की भुमिका का निर्वाह करते रहें है।जहॉ कुत्ता और कौआ मनुष्यों द्वारा फैलाई गई खाद्यान्न सामग्री को चट कर उसके सड़ने से फैलने वाले रोगों से बचाते हैं वहीं गिध्द मरने वाले पशुओं को खाकर वातावरण को दूषित होने से तो बचाते ही हैं,साथ ही प्राकुतिक रूप से भोजन चक्र में अह्म भुमिका भी निभाते है। ये हमें बीमारी से बचाते है।संक्रामक बीमारी और कुत्तों की उपस्थिति का अंर्तसंबंध 1994 में गुजरात के सूरत शहर में फैली प्लेग की बीमारी से ज्ञात होता है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1994 में सूरत नगरनिगम ने कुत्तों को मारने का अभियान चलाया था जिससे कुत्ते तो खत्म हो गए लेकिन शहर में गंदगी और चूहे बढ़ गए। अब गंदगी रोग की वाहक होती है और चूहे प्लेग के जीवाणुओं के,जिसका परिणाम सूरत में प्लेग जैसी भयानक बीमारी की वापिसी के रूप में सामने आया था।

गिध्द की प्रासंगिेता की बात है तो गिध्द मरे हुए पशुओं को खाते थे अब से लगभग पच्चीस वर्ष पहले तक गॉव और शहर के बाहर गंदगी के पास गिध्दों के झुण्ड मंडराते हुए दिखते थे। मगर अब गिध्द की संपूर्ण प्रजाति पर ही संकट हैं और नब्बे के दशक के बाद जन्मी पीढ़ी को गिध्द से साक्षात्कार का अवसर शायद ही मिला हो?

भारत में गिध्दों की मुख्यनौप्रज ातियॉ- बिय डेंड, इजिप्शियन, स्लैंडरबिल्ड, सिनेरियस, किंग, यूरेजिन,लॉग बिल्ड,हिमालियन ग्रिफिन और व्हाइट बैक्ड हैं, जिन पर विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है।पर्यावरण वैज्ञानिकों के अनुसार 1980 के दशक तक भारत में काफी संख्या में गिध्द पाए जाते थे। देश के हर हिस्से में इनकी उपस्थिति थी। 1990 के मध्य दशक तक इनकी संख्या आधी हो गई। और वर्ष 2007 तक स्थिति इतनी विकट हो गई कि देश के 99 प्रतिशत गिध्दों का सफाया हो गया। वैसे अपनी संख्या वृद्वि के हिसाब से भी गिध्दों का जीवन चक्र भी काफी  जटिल होता है। गिध्द जब पॉच साल के होते हैं तभी वे जोड़ा बनाते हैं और प्रजनन शुरू करते हैं। पूरे जीवन काल में वे केवल एक मादा साथी के साथ जोड़ा बनाते हैं। गिध्द अक्टूबर की शुरूआत में अपने घोंसले बनाते हैं और मार्च तक उनमें रहकर प्रजनन करते हैं।फिर वे घोंसले छोड़कर चले जाते है। गिध्द साल में एक ही बार अण्डे देते है।, जिनमें से 50 प्रतिशत बेकार चले जाते है।जहॉ तक हमारी प्रकृति में इनकी उपयोगिता  की बात है तो इन्हें कुदरती सफाई कर्मी कहा जाता है। ये हमारे जैव पर्यावरण के अनुकूल होते है।मृत जानवरों को खाकर उनसे फैलने वाली घातक बीमारियों से हमें बचाते है।इस संदर्भ में  गिध्द संरक्षण कार्यक्रम से जुड़े वैज्ञानिक डॉ.विभु प्रकाश के अनुसार-  मृत जानवरों के मांस में बैक्टरीया और फंगश  पनपने लगते है। ये मांस के सड़ने के बाद जमीन के अंदर चले जाते हैं, साथ ही हवा के द्वारा वातावरण में फैलते हैं। इन बैक्टरीया को नष्ट नहीं किया जा सकता है। परिणामस्वरूप अनेक बीमारियॉ मनुष्यों और जानवरों में फैल सकती है।इस मांस को खाकर गिध्द हमें बीमारियों से बचाते है। गिध्दों के पेट में उच्च अम्लता वाला एसिड होता है,जिससे मॉस तेजी से पचता है।अत: काफी मात्रा में मांस खाने के बाद वे शीघ्र ही पुन: मॉस खाने के लिए आ जाते है। गिध्दों की इस क्षमता के कारण जमीन में बैक्टरीया का प्रभाव होने के पहले ही मॉस खत्म हो जाता है, और हम उसके घातक प्रभाव से बच जाते हैं।

अब प्रश्न ये है कि प्रकृति का यह रक्षक विलुप्ति की कगार पर कैसे पहुॅच गया? गिध्दों की विलुप्ति का सबसे बड़ा एकमात्र कारण है- दर्द निवारक दवा डाइक्लोफेनेक।इस दवा का प्रयोग मनुष्यों एवं पालतु पशुओं पर काफी अधिक किया जाता है।इसका प्रभाव जानवरों के मॉस में काफी लंबे समय तक बना रहता है।जानवरों के मरने पर इस दवा से युक्त मॉस को खाने के कारण गिध्दों में यूरिक एसिड बहुत तेजी से बनने लगता है, जो गिध्दों की किडनी खराब कर देता है और वे मर जाते है। हालॉकि वर्ष 2008 में सरकार ने जानवरों के लिए इस दवा को प्रतिबंधित कर दिया है।लेकिन मनुष्यों के लिए 30 एमएल की छोटी शीशी में उपलब्ध है और पशु पालक और पशु चिकित्सक इसका प्रयोग कर रहें हैं जिससे गिध्द, मर रहें है।पशुओं के लिए दी जाने वाली एक अन्य दवा एकेक्लोफेनेक भी गिध्दों के लिए खतरा बन गई है। एकेक्लोफेनेक की संरचना और औषधीय गुण डाइक्लोफेनेक जैसे है।और अब यह दवा गिध्दों के लिए जानलेवा साबित हो रही है।हालॉकि पर्यावरणविदों के प्रचार प्रसार और डाइक्लोफेनेक पर रोक के बाद कई जगहों पर गिध्द पुन: देखे गए हैं।उत्तरप्रदेश के दुधवा टाइगर रिजर्व में गिध्दों की संख्या बढी हैं। म.प्र. में भोपाल के निकट गिध्द संरक्षण का प्रयास हो रहा है।वास्तव में गिध्द हमारे पर्यावरण के साथ साथ मानवता के लिए भी जरूरी है। क्योंकि इनके खात्में से न जाने कौन सी अनजानी बीमारी सिर उठा ले और हमारा सफाया कर दे बेरोकटोक? ऐसी स्थिति से बचने के लिए आइए हम गिध्दों को बचाएॅ।

About the author /


Related Articles

Leave a Reply

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in