नक्सली कहर का सिलसिला – प्रमोद भार्गव

5:06 pm or March 14, 2018
sukma-u20572770713ozb-621x414livemint

नक्सली कहर का सिलसिला

  • प्रमोद भार्गव

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के किस्टाराम इलाके में नक्सलियों ने एंटी लैंडमाइन वाहन को निषाना बनाकर सीआरपीएफ के 9 जवान हताहत कर दिए। हालांकि खुफिया सुत्रों ने ऐसे बावजूद जवान पेट्रोलिंग पर निकल पड़े। जिसका नतीजा उन्हें प्राण गंवाकर भुगतना पड़ा। हमले की जानकारी सीआरपीएफ को एक दिन पहले दे दी थी। दरअसल छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में हरेक सड़क, पगडंडी और जंगल के रास्तों पर नक्सलियों ने विस्फोटक बिछाया हुआ है। नक्सलियों की उसी चाल को नाकाम करने के लिए सरकार ने सुरक्षा बलों को 2005-06 में माइन प्रोटेक्टेड वाहन दिए थे, लेकिन एक वाहन जवानों की जान नहीं बवा पा रहे हैं।

इस हमले से तो यह सच्चाई सामने आई है कि नक्सलियों का तंत्र और विकसित हुआ है, साथ ही उनके पास सूचनाएं हासिल करने का मुखबिर तंत्र भी हैं। हमला करके बच निकलने की रणनीति बनाने में भी वे सक्षम हैं। इसीलिए वे अपनी कामयाबी का झण्डा फहराए हुए हैं। बस्तर के इस जंगली क्षेत्र में नक्सली नेता हिडमा का बोलबाला है। वह सरकार और सुरक्षाबलों को लगातार चुनौती दे रहा है, जबकि राज्य एवं केंद्र सरकार के पास रणनीति की कमी है। यही वजह है कि नक्सली क्षेत्र में जब भी कोई विकास कार्य होता है तो नक्सली उसमें रोड़ा अटका देते हैं। सड़क निर्माण के पक्ष में तो नक्सली कतई नहीं रहते, क्योंकि इससे पुलिस व सुरक्षाबलों की आवाजाही आसन हो जाएगी। इसीलिए ज्यादातर सड़कों और पगडंडियों पर बारूदी सुरंगें बिछाई हुई हैं।

नक्सली समस्या से निपटने के लिए राज्य व केंद्र सरकार दावा कर रही हैं कि विकास इस समस्या का निदान है। यदि छत्तीसगढ़ सरकार के विकास संबंधी विज्ञापनों में दिए जा रहे आंकड़ों पर भरोसा करें तो छत्तीसगढ़ की तस्वीर विकास के मानदण्डों को छूती दिख रही हैं, लेकिन इस अनुपात में यह दावा बेमानी है कि समस्या पर अंकुष लग रहा है ? बल्कि अब छत्तीसगढ़ नक्सली हिंसा से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बन गया है। अब बड़ी संख्या में महिलाओं को नक्सली बनाए जाने के प्रमाण भी मिल रहे हैं।

व्यवस्था बदलने के बहाने 1967 में पष्चिम बंगाल के उत्तरी छोर पर नक्सलवाड़ी ग्राम से यह खूनी आंदोलन षुरू हुआ था। तब इसे नए विचार और राजनीति का वाहक कुछ साम्यवादी नेता, समाजषास्त्री, अर्थषास्त्री और मानवाधिकारवादियों ने माना था। लेकिन अंततः माओवादी नक्सलवाद में बदला यह तथाकथित आंदोलन खून से इबारत लिखने का ही पर्याय बना हुआ है। जबकि इसके मूल उद्दष्यों में नौजवानों की बेकारी, बिहार में जाति तथा भूमि के सवाल पर कमजोर व निर्बलों का उत्थान, आंध्रप्रदेष और अविभाजित मध्यप्रदेष के आदिवासियों का कल्याण तथा राजस्थान के श्रीनाथ मंदिर में आदिवासियों के प्रवेष षामिल थे। किंतु विशमता और षोशण से जुड़ी भूमण्डलीय आर्थिक उदारवादी नीतियों को जबरन अमल में लाने की प्रक्रिया ने देष में एक बड़े लाल गलियारे का निर्माण कर दिया है, जो पषुपति ;नेपालद्ध से तिरुपति ;आंध्रप्रदेषद्ध तक जाता है। इस पूरे क्षेत्र में माओवादी वाम चरमपंथ पसरा हुआ है। इसने नेपाल झारखण्ड, बिहार, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, महाराश्ट्र, तेलांगना और आंध्रप्रदेष के एक ऐसे बड़े हिस्से को अपनी गिरफ्त में ले लिया है, जो बेषकीमती जंगलों और खनिजों से भरे हैं। छत्तीसगढ़ के बैलाडीला में लौह अयस्क के उत्खनन से हुई यह षुरुआत ओड़ीसा की नियमगिरी पहाड़ियों में मौजूद बाॅक्साइट के खनन तक पहुंच गई है। यहां आदिवासियों की जमीनें वेदांता समूह ने अवैध हथकंडे अपनाकर जिस तरीके से छीनी थीं, उसे गैरकानूनी खुद देष की सर्वोच्च न्यायालय ने ठहराया था। सर्वोच्च न्यायालय का यह एक ऐसा फैसला है, जिसे मिसाल मानकर केंद्र और राज्य सरकारें ऐसे उपाय कर सकती हैं, जो नक्सली चरमपंथ को रोकने में सहायक बन सकते हैं। लेकिन तात्कालिक हित साधने की राजनीति के चलते ऐसा हो नहीं रहा है। राज्य सरकारें केवल इतना चाहती हैं कि उनका राज्य नक्सली हमले से बचा रहे। छत्तीसगढ़ इस नजरिए से और भी ज्यादा दलगत हित साधने वाला राज्य है। क्योंकि भाजपा के इन्हीं नक्सली क्षेत्रों से ज्यादा विधायक जीतकर आते हैं। जबकि दूसरी तरफ नक्सलियों ने कांग्रेस पर 2013 में बड़ा हमला बोलकर लगभग उसका सफाया कर दिया था। क्योंकि कांग्रेस नेता महेन्द्र कर्मा ने नक्सलियों के विरुद्ध सलवा जुडूम को 2005 में खड़ा किया था। सबसे पहले बीजापुर जिले के कुर्तु विकासखण्ड के आदिवासी ग्राम अंबेली के लोग नक्सलियों के खिलाफ खड़े हुए थे। नतीजतन नक्सलियों की महेन्द्र कर्मा से दुषमनी ठन गई। इस हमले में महेंद्र कर्मा के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण षुक्ल, कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष नंदकुमार पटेल और हरिप्रसाद समेत एक दर्जन नेता मारे गए थे। इसके पहले 2010 में नक्सलियों ने सबसे बड़ा हमला बोलकर सीआरपीएफ के 76 जवानों को हताहत कर दिया था।

सुनियोजित इन हत्याकांड के बाद जो जानकारियां सामने आई थीं, उनसे खुलासा हुआ था कि नक्सलियों के पास आधुनिक तकनीक से समृद्ध राॅकेट लांचर, इंसास, हेंडग्रेनेड, ऐके-56, एसएलआर और एके-47 जैसे घातक हथियार षामिल हैं। साथ ही आरडीएक्स जैसे विस्फोटक हैं। लैपटाॅप, वाॅकी-टाॅकी, आईपाॅड जैसे संचार के संसाधन है। साथ ही वे भलीभांति अंग्रेजी भी जानते हैं। तय है, ये हथियार न तो नक्सली बनाते हैं और न ही नक्सली क्षेत्रों में इनके कारखाने हैं। जाहिर है, ये सभी हथियार नगरीय क्षेत्रों से पहुंचाए जाते हैं ? हालांकि खबरें तो यहां तक हैं कि पाकिस्तान और चीन माओवाद को बढ़ावा देने की दृश्टि से हथियार पंहुचाने की पूरी एक श्रृंखला बनाए हुए हैं। चीन ने नेपाल को माओवाद का गढ़ ऐसे ही सुनियोजित शड्यंत्र रचकर वहां के हिंदू राश्ट्र की अवधारणा को ध्वस्त किया। नेपाल के पषुपति से तिरुपति तक इसी तर्ज के माओवाद को आगे बढ़ाया जा रहा है। हमारी खुफिया एजेंसियां नगरों से चलने वाले हथियारों की सप्लाई चैन का भी पर्दाफाष करने में कमोबेष नाकाम रही हैं। यदि एजेंसियां इस चैन की ही नाकेबंदी करने में कामयाब हो जाती हैं तो एक हद तक नक्सली बनाम माओवाद पर लगाम लग सकती है ?

जब किसी भी किस्म का चरमपंथ राश्ट्र-राज्य की परिकल्पना को चुनौती बन जाए तो जरुरी हो जाता है, कि उसे नेस्तानाबूद करने के लिए जो भी कारगर उपाय उचित हों, उनका उपयोग किया जाए ? किंतु इसे देष की आंतरिक समस्या मानते हुए न तो इसका बातचीत से हल खोजा जा रहा है और न ही समस्या की तह में जाकर इसे निपटाने की कोषिष की जा रही है ? जबकि समाधान के उपाय कई स्तर पर तलाषने की जरूरत है। यहां सीआरपीएफ की तैनाती स्थाई रूप में बदल जाने के कारण पुलिस ने लगभग दूरी बना ली है। जबकि पुलिस सुधार के साथ उसे इस लड़ाई का अनिवार्य हिस्सा बनाने की जरूरत है। क्योंकि अर्द्धसैनिक बल के जवान एक तो स्थानीय भूगोल से अपराचित हैं, दूसरे वे आदिवासियों की स्थानीय बोलियों और भाशाओं से भी अनजान हैं। ऐसे में कोई सूचना उन्हें टेलीफोन या मोबाइल से मिलती भी है, तो वे वास्तविक स्थिति को समझ नहीं पाते हैं। पुलिस के ज्यादातर लोग उन्हीं जिलों से हैं, जो नक्सल प्रभावित हैं। इसलिए वे स्थानीय भूगोल और बोली के जानकार होते हैं।

सीआरपीएफ के पास अब तक अपना हवाई तंत्र नहीं है। इस कारण घायल जवानों को अस्पताल तक पहुंचाने में तो देरी होती ही है, दूसरी बटालियनों की मदद में भी देरी होती है। इसलिए हेलिकाॅप्टर जैसी सुविधाएं इन्हें देना मुनासिव होगा। द्रोण भी यहां निगरानी में लगाए जाने चाहिए। क्योंकि जिस आईईडी विस्फोटकों का इस्तेमाल नक्सली बारूदी सुरंगें बिछाने में कर रहे हैं, उनकी टोह लेना दूर संवेदक उपकरणों से मुष्किल हो रहा है। दरअसल पूरा नक्सली क्षेत्र लौह अयस्कों से भरा है, इसलिए चुंबकीय व लेजर उपकरण धरती के नीचे छिपाकर रखे बम अथवा विस्फोटक की सटीक जानकारी नहीं दे पाते हैं। नक्सली अब इतने चालाक हो गए हैं कि वे पेड़ों की छाया में भी दबाव से फूट जाने वाले प्रेषर बम लगाने लगे हैं। गर्मियों में जैसे ही छाया की तलाष में कोई जवान पेड़ के नीचे बैठता है तो विस्फोटक का षिकार हो जाता है। इसलिए अब रडार प्रणाली से विस्फोटकों की टोह लेने वाले उपकरण जवानों के पास होना जरूरी है।

गौरतलब है कि जो नक्सली संघर्श वंचितों के हित साधने के लिए षुरू हुआ था, उससे अब आजीविका के प्राकृतिक संसाधन बचाए रखने की लड़ाई भी जुड़ गई है। जबकि राज्य सरकारें आदिवासियों की बजाय बहुराश्ट्रीय कंपनियों के हितों की कहीं ज्यादा परवाह करती हैं। इनसे मिले राजस्व से नेता और सरकारी कर्मचारियों के आर्थिक हितों की पूर्ति होती हैं। तथाकथित लोककल्याणकारी योजनाएं भी इसी राषि से चलती हैं। नतीजतन स्थानीय आदिवासियों के वास्तविक हित सर्वथा नजरअंदाज कर दिए जाते हैं। जबकि ये आदिवासी इसी प्रकृति का हिस्सा हैं। इस लिहाज से समस्या के स्थाई समाधान के लिए विकास की समझ, दिषा और तरीकों में आमूलचूल परिवर्तन की जरूरत है।

Tagged with:     , , ,

About the author /


Related Articles

Leave a Reply

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in