राष्ट्राय स्वाहा, इदं राष्ट्राय इदं न मम – योगेन्द्र सिंह परिहार

2:04 pm or May 30, 2019
4575_rss

राष्ट्राय स्वाहा, इदं राष्ट्राय इदं न मम

योगेन्द्र सिंह परिहार
जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में से एक माधव सदाशिव गोलवलकर जिन्हें गुरुजी के नाम से संबोधित किया जाता है उन्होंने हमेशा “राष्ट्राय स्वाहा, इदं राष्ट्राय इदं न मम” मंत्र के माध्यम से ये दर्शाने की कोशिश की कि उनका सबकुछ राष्‍ट्र को समर्पित है। ‘इदं न मम’ अर्थात यह मेरा नही है, कुछ भी मेरा नहीं है। संघ के पितृ पुरुष के ये वचन न पहले समझ मे आते थे न आज आते हैं। आखिर संघ के लोगों का क्या समर्पण है राष्ट्र के प्रति, यह पता तो चले? संघ के लोगों का ये कहना कि आरएसएस एक सांस्कृतिक संगठन है इसका राजनीति से कोई लेना देना नही। फिर राजनीति में इतना हस्तक्षेप क्यों?
“संघे शक्ति कलियुगे” ये संघ का महत्वपूर्ण नारा है। इसका अर्थ है कलियुग में एकता सबसे बड़ी शक्ति है। कोई पूछे संघ से कि आप किसे संगठित करने की बात कर रहे हैं। जब सारा देश संगठित होकर स्वतंत्रता आंदोलन का हिस्सा बना तब संघ आज़ादी की लड़ाई में शामिल नही हुई। आज देश में साम्प्रदायिकता पैर पसार रही है तो सिर्फ इसी कट्टर विचारधारा की वजह से। हिन्दू को मुसलमान से लड़वा रहे, ईसाइयों को मुसलमान से लड़वा रहे, सामान्य को दलितों से लड़वा रहे। सभी धर्मों, जातियों को छिन्न-भिन्न करके नारा दे रहे संघे शक्ति कलियुगे!
संघ के प्रचारक कहते हैं हमें राजनीति से कोई लेना देना नही, फिर एक पार्टी विशेष के लिए घर-घर प्रचार करने क्यों जाते हैं क्यों देश को गुमराह करते हैं कि यदि बीजेपी सत्ता में नही आई तो 14-15 प्रतिशत मुसलमान 85 प्रतिशत हिंदुओं को घर मे घुसकर मारेंगे। प्रश्न ये है कि क्यों मारेंगे? इस देश मे गांव-गांव में हिन्दू मुसलमान साथ-साथ रह रहे हैं वे सभी मिलकर ईद भी मनाते हैं और दिवाली भी, फिर एक दूसरे को मारेंगे क्यों? संघ बीजेपी के लिए वोट कबाड़ने के उद्देश्य से देश को डराकर, नागरिकों को भीरु बनाने का कुत्सित प्रयास कर रहा है। गंभीर विषय ये है कि लोग इनकी बातों के कुचक्रों में फंसते चले जा रहे हैं। संघ की बातें लोगों को अफीम के नशे की तरह दी जा रही हैं। लोग अब इनकी झूठी मनगढंत बातों को ही सही मान रहे हैं और सच को सिरे से नकार रहे हैं।
बंगाल में क्या किया, लोगों को लड़वाया न, वोट की खातिर और वहां इंसानियत खत्म करके वोट हासिल कर भी ली। लेकिन इसमें राष्ट्र को क्या समर्पित किया ये बता दे कोई। हिन्दू-मुसलमान की लड़ाई सरकार बनाने के लिए सिर्फ एक पैंतरा मात्र है। खण्ड-खण्ड करके संगठित करने की बात अजीब सी नही लगती। अनेकता में एकता वाली बात किताबों में कहीं धूल खा रही है।
हरिद्वार में एक मात्र भारत माता मंदिर है जिसकी स्थापना पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने करवाई। संघ ने राष्ट्र के नाम पर क्या किया? लोग कहते हैं संघ विचारधारा की लड़ाई लड़ रही है। कौन सी विचारधारा, नाथूराम गोडसे की! जिसने महात्मा गांधी जी की हत्या की। संघ के प्रचारक सुनील जोशी की हत्या की साज़िश रचने वाली प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ाने की विचारधारा कौन सी है? जो अपनो के हत्यारों को चुनावी फायदे के लिए इस्तेमाल करलें उनकी विचारधारा   स्वार्थहित की हो सकती है राष्ट्रहित की नही।
एक बात और समझ से परे है 2014 में भाजपा ने पूरे देश से जितने वादे किए एक भी पूरे नही किये। महंगाई कम नही हुई, काला धन आया नही, बेरोजगारी बढ़ गई, किसानों की आय दुगनी नही कर पाए। उसके बाद अब 2019 में समूचे देश को छद्म राष्ट्रवाद घोंट-घोंट के पिला दिया। ये बात स्थापित कर दी कि देश सिर्फ मोदी के हाथों सुरक्षित है और फिर से प्रचंड बहुमत की सरकार बना ली। मूल प्रश्न ये है कि इतनी जद्दोजहद करके, लोगों में आपसी वैमनस्यता बढ़ा के सरकार बना भी ली तो करेंगे क्या? कोई ठोस नीति है नही, पिछले 5 वर्षों में विदेश यात्रा और राज्यों में चुनाव लड़ने के अलावा कुछ नही किया। मुझे लगता है बीजेपी ने गुरु जी का वाक्य “राष्ट्राय स्वाहा” का मतलब राष्ट्र को समर्पित करने से नही बल्कि राष्ट्र को स्वाहा यानी नष्ट करने से मान लिया है।
देश की आज़ादी से लेकर उसके निर्माण में हज़ारों-लाखों लोगों ने त्याग और बलिदान दिए इससे कोई भी इंकार नही कर सकता। आज देश मे आरएसएस की विचारधारा ने चुनावी फायदे के लिए पूरा चुनाव गांधी परिवार पर केंद्रित रखा। इसीलिए अब मै आपको बताता हूँ कि देश के लिए गांधी परिवार का क्या योगदान है, मैं बताता हूं गुरु जी के इस मंत्र “राष्ट्राय स्वाहा, इदं राष्ट्राय इदं न मम” का असल मतलब क्या है।   काँग्रेस के 132 साल में 60 राष्ट्रीय अध्यक्ष हुए जिसमें महात्मा गांधी जी को मिलाकर नेहरू-इंदिरा गांधी परिवार के 7 सदस्य काँग्रेस अध्यक्ष बने। महात्मा गांधी की अगुआई में स्वतंत्रता आंदोलन हुआ। वे उच्च कोटि के बेरिस्टर थे उन्होंने अपना सबकुछ छोड़ दिया इसी देश के लिए। यहां तक कि जब उन्होंने देखा कि देश के नागरिकों के पास तन ढंकने के लिए कपड़े नही है तो उन्होंने अपने वस्त्र त्याग कर ताउम्र एक धोती में गुजार दी। फकीर किसे कहेंगे जिसने ऐशोआराम छोड़कर  अपना सर्वस्व देश को दिया या उन्हें जो दिन में 5 बार कपड़े बदलते हैं और लाखों रुपये के कपड़े पहनते हैं। मुझे एक बात कभी समझ में नही आई कि जब आप प्रधानमंत्री बन चुके हो फिर क्यों अपनी माँ को उस छोटे से घर मे छोड़ आए, प्रधानमंत्री निवास में इतने कमरे होते हैं, एक कमरा वो अपनी माँ को दे सकते थे और माँ को अपने घर नही लाना और उसे आप त्याग की संज्ञा दे रहे हो, धिक्कार है आपके बेटे होने पर, ये त्याग नही सिर्फ ढोंग के अलावा कुछ नही।
काँग्रेस के 2 अन्य अध्यक्ष मोतीलाल नेहरू और जवाहर लाल नेहरू ने देश की आज़ादी के लिए अपनी पैतृक संपत्ति देश को समर्पित कर दी। देश के लिए समर्पण का इससे बड़ा उदाहरण क्या हो सकता है कि पंडित नेहरू  स्वतंत्रता की लड़ाई के दौरान करीब 11 साल जेल में रहे। कांग्रेस के 2 अन्य अध्यक्षों इंदिरा गांधी व राजीव गांधी ने राष्ट्रनिर्माण करने में अपने प्राणों की आहुति दे दी। अब आप ही बताइए राष्ट्र को अपना सर्वस्व समर्पण किसने किया। ये वही गांधी परिवार है जिसे कोस-कोस कर मोदी जी ने देश मे 2 बार सरकार बना ली। गुरु जी के मंत्र राष्ट्राय स्वाहा, इदं राष्ट्राय इदं न मम को वास्तविक व सार्थक स्वरूप कांग्रेस ने दिया है। आज नही तो कल पूरे देश को ये बात समझ आ जायेगी कि किस के हाथ में देश सुरक्षित है।
Tagged with:     ,

About the author /


Related Articles

Leave a Reply

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in