Blog

  • 120520148
    संदर्भ – भ्रष्टाचार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का अहम् फैसला सीबीआई के शिंकजे में आला अधिकारी
    Posted in: Uncategorized

    –प्रमोद भार्गव- भ्रष्टाचार पर शिंकजा कसने की दृष्टि से सर्वोच्च न्यायालय ने अहम् फैसला दिया है। हालांकि भ्रष्टाचार मुक्त शासन-प्रशासन देने की जवाबदेही विधायिका की है,लेकिन जब विधायिका भ्रष्टाचार पर पर्दा डाले रखने के काम में लग जाए, तब न्यायालय की यह पहल अनुकरणीय है। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की ताकत में विस्तार किया है। […]

  • 120520149
    पक्षपाती आपराधिक कानून कभी भी लोक की सुरक्षा की गारंटी नहीं हो सकते
    Posted in: Uncategorized

    –शैलेन्द्र चौहान- मनोवैज्ञानिकों के अनुसार व्यक्ति में नकारात्मक और सकारात्मक दोनों प्रकार की प्रवृत्तिायां मौजूद रहती हैं। समाज में शांति और व्यवस्था के लिए आवश्यक है नकारात्मक प्रवृत्तिायों का शमन तथा सकारात्मक वृत्तिायों की रक्षा एवं प्रोत्साहन। धर्मानुग्राही न्याय-प्रणाली का सहारा लेकर इस देश का अभिजन वर्ग सहस्राब्दियों तक समाज के शीर्ष पर विराजमान रहा […]

  • 1205201410
    भारत के अतीत की याद दिलाती है यह उपलब्धि
    Posted in: Uncategorized

    – सुनील तिवारी- भारत के लिए यह गर्व का विषय है कि प्रतिष्ठित इण्डियन इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गुवाहाटी विश्व के सर्वश्रेष्ठ सौ विश्वविद्यालयों की सूची में स्थान पा गया है। भारत के लिए यह पहला मौका है जब उसे ऐसी उपाधि हासिल हुई है। आइआइटी-जी नाम से विख्यात यह देश का पहला ऐसा विश्वविद्यालय है,जो […]

  • 1205201411
    घातक है-विद्युत चुम्बकीय विकिरण प्रदूषण
    Posted in: Uncategorized

    –डॉ.सुनील शर्मा- सामान्यत: हम प्रदूषण को पर्यावरण की क्षति से जुड़ा मानकर पर्यावरण संरक्षण की बातें अक्सर करते है। लेकिन विकास के क्रम ने प्रदूषण के अनेक स्वरूप हमारे सामने खड़े कर दिए हैं जो कि शनै: शनै: हमारी सभ्यता को ही गटकने तैयार हैं, हमारे सामने प्रदूषण का सबसे घातक स्वरूप विद्युत चुम्बकीय विकिरणों […]

  • 1205201412
    गुणवत्ता से दूर हमारे आम
    Posted in: Uncategorized

    –डॉ.महेश परिमल- संघ ने भारत के आमों पर एकतरफा प्रतिबंध लगा दिया है। इससे देश के आम उत्पादकों में काफी निराशा है। देश को करोड़ों का नुकसान हुआ है। पिछले वर्ष हमने 265 करोड़ रुपए के आम विदेश भेजे थे। जो आधे यूरोप में शौक से खाए गए। भारतीय किसानों के साथ इतना बड़ा धोखा […]

  • 050520142
    प्रियंका गांधी के हमलों से बीजेपी में अफरातफरी
    Posted in: Uncategorized

    –शेष नारायण सिंह- बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने पिछले छ: महीने से कांग्रेस पार्टी और खासकर सोनिया गांधी , राहुल गांधी और राबर्ट वाड्रा पर जबरदस्त जुबानी जंग छेड़ रखी है । राहुल गांधी और सोनिया गांधी आमतौर पर जबानी मुकाबले में उस  स्तर तक नहीं जाते जिस स्तर पर नरेंद्र मोदी जाते […]

  • 050520143
    रामदेव का बचाव पक्ष
    Posted in: Uncategorized

    –वीरेन्द्र जैन- भाजपा और कांग्रेस में एक बड़ा फर्क यह भी है कि भाजपा अपने नेताओं, व सहयोगियों पर किसी भी तरह की अनैतिकता, अपराधा, अशालीनता और अनियमतता के आरोप लगने पर उसके बचाव में उतर आती है जिससे पूरी पार्टी ही दोषी हो जाती है जबकि कांग्रेस अपने बड़े से बड़े सदस्य के ऊपर […]

  • 050520144
    ढोंगी बाबा रामदेव का कुलषित चरित्र उजागर!
    Posted in: Uncategorized

    –डॉ. पुरुषोत्ताम मीणा ‘निरंकुश’- रामदेव नाम का ढोंगी बाबा असल में कितने घिनौने चरित्र का और कितनी घटिया रुग्ण मानसिकता का शिकार है। जो दूसरों का उपचार करने की बात करता है, उसका स्वयं का मस्तिष्क कितना विकृत हो चुका है। जिसे दलित समाज की बहन-बेटियों की इज्जत को तार-तार करने में शर्म नहीं आती, […]

  • 050520145
    निरंकुशता और निराशावाद की अभिव्यक्ति है मोदी का ‘दैवीय अधिकार’
    Posted in: Uncategorized

    -अनिल यादव- प्रसिध्द दार्शनिक हीगल ने कहा था कि राज्य पृथ्वी पर ईश्वर का रूप है। यह विचार निरंकुश शासन प्रणाली का आधार बना और इतिहास के बहुत सारे तानाशाहों ने अपने शासन का आधार ‘ईश्वर की इच्छा’ को बनाया। इसी संदर्भ में यदि इतिहास की धारा में थोड़ा और पीछे जाया जाए, तो हम […]

  • 050520141
    एक दामाद रंजन भी थे…
    Posted in: Uncategorized

    –विवेकानंद- लोकसभा चुनाव की आहट शुरू होने के साथ ऐसा लगा था कि इस बार चुनाव में ढेरों मुद्दे हैं, जिन पर सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों के बीच एक लोकतांत्रिक बहस होगी और जनता अपने विवेक से इस बहस का निष्कर्ष निकालेगी। जो पक्ष सही होगा, जिसके तर्क मजबूत और योजनाएं जनकल्याण के योग्य समझेगा […]

  • 050520146
    भाजपा और सामाजिक न्याय का सच
    Posted in: Uncategorized

    –मोहम्मद आरिफ- सामाजिक न्याय का प्रश्न भारतीय सामाजिक संरचना और आर्थिक स्थितियों से गहरी तरह संबध्द है। भारत में मौजूद सैकड़ों साल पुरानी मनुवादी वर्ण व्यवस्था से यहाँ सभी अच्छी तरह परिचित हैं,और सामाजिक न्याय का सवाल हमारे स्वतंत्रता आंदोलन में भी अहम रहा है। इसी को देखते हुए संविधान में इसके लिए उपाय किये […]

  • 050520147
    गुजरात के कुछ क्षेत्रो में मोदी का नाम लेना वर्जित है
    Posted in: Uncategorized

    –एल.एस.हरदेनिया- सारे देश में भले ही नरेन्द्र मोदी के नाम पर वोट मांगे जा रहे हों, सभी जगह यह नारा लग रहा हो कि ”अब की बार मोदी सरकार”। परंतु गुजरात के कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जहां मोदी के नाम पर वोट मांगने की हिम्मत कोई नहीं कर पा रहा है। यहां तक कि भारतीय […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in