Blog

  • 0906201412
    मानवता के लिए घातक है-गिध्दों का विलुप्त होना !
    Posted in: Uncategorized

    –डॉ. सुनील शर्मा- प्रकृति ने मानव के द्वारा फैलाई गई गंदगी को साफ करने का कार्य तीन जीवों के हवाले किया है। और वो तीन जीव हैं- गिध्द, कौआ और कुत्ता! ये तीनों प्राणी अनवरत रूप कुदरती सफाईकर्मी की भुमिका का निर्वाह करते रहें है।जहॉ कुत्ता और कौआ मनुष्यों द्वारा फैलाई गई खाद्यान्न सामग्री को […]

  • 200620141
    धारा 370 : भाजपा और उसके मिथक
    Posted in: Uncategorized

    –अनिल यादव- हालियां में नवनिर्वाचित राज्य मंत्री जीतेन्द्र सिंह का धारा 370 को समाप्त करने को लेकर आए बयान को नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुलाकात को हमें जोड़कर देखना होगा। क्योंकि संघी ‘राष्ट्रवाद’ पाकिस्तान विरोध और जम्मू और कश्मीर को लेकर ही हमारे देश में ‘फल-फूलता’ है। क्योंकि […]

  • 020620142
    अब क्या मिसाल दूं…
    Posted in: Uncategorized

    –विवेकानंद- नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आते ही दो ऐसे काम किए, जिनको लेकर बीजेपी पूरे 10 सालों तक झंडा उठाए रही। पाकिस्तानी आतंकियों द्वारा हुए हमलों के कारण बीजेपी लगातार यूपीए सरकार पर कमजोर होने का आरोप लगाती रही। पाकिस्तान उसे फूटी आंख नहीं सुहाता था। किसी पाकिस्तानी नेता को बुलाना तो दूर उससे […]

  • 020620143
    बदलाव की दिशा
    Posted in: Uncategorized

    –वीरेन्द्र जैन- प्राकृतिक जल के प्रवाह को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचने के दो प्रमुख मार्ग होते हैं जिनमें से एक का नाम नदी होता है और दूसरे को नहर कहते हैं। नदी, उपलब्ध भूगोल में पानी द्वारा अपना मार्ग बनाने और लम्बे काल खण्ड में अवरोधों से निरंतर टकरा कर उसे सुगम […]

  • 020620144
    क्या भाजपा वाकई एक राष्ट्रीय पार्टी है ?
    Posted in: Uncategorized

    –सुभाष गाताड़े- आजादी के बाद गठित इस 16 वीं संसद के एक पहलू की तरफ लोगों का बहुत कम ध्यान गया है। पहली बात, इस बार की संसद में देश के सबसे बड़े अल्पसंख्यक समुदाय के सबसे कम सदस्य होंगे (सिर्फ 21) जबकि अब तक की संसद में इनकी संख्या 28 से 40 रहती आयी […]

  • 020620145
    राममंदिर आदि मुद्दों को लेकर संघ परिवार द्वारा नरेन्द्र मोदी पर दबाव बनाना शुरू
    Posted in: Uncategorized

    –एल.एस.हरदेनिया- एक बहुत ही प्राचीन कहावत है कि हाथी के खाने के और दिखाने के दांत अलग होते हैं। यह कहावत पूरी तरह से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर लागू होती है। पूरे चुनाव प्रचार के दौरान संघ परिवार के किसी भी सदस्य ने न राममंदिर बनाने की बात कही, न तो जम्मू एवं कश्मीर से […]

  • 020620146
    मोदी से मोदीत्व के निर्माण की पटकथा
    Posted in: Uncategorized

    –जावेद अनीस- 2014 का चुनाव भाजपा ने नहीं मोदी, संघ और कार्पोरेट्स की तिकड़ी द्वारा लड़ा गया, इस तरह का खर्चीला और आक्रमक चुनाव प्रचार पहले कभी नहीं देखा गया था, एक तरफ तो मोदी के साथ व्यवसायी वर्ग की झोली थी तो दूसरी तरफ संघ परिवार का कैडर,जरूरत तत्कालीन सरकार के प्रति जनता में […]

  • 020620147
    आसान नहीं है गंगा की सफाई ?
    Posted in: Uncategorized

    –प्रमोद भार्गव- देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विकास और सुधार संबंधी उत्साहजनक चिंताओं की अनुगुंज दसों दिशाओं में है। इनमें से एक चिंता पुण्य-सलिला गंगा उध्दार से जुड़ी है। गंगा अपने उद्गम स्त्रोत गंगोत्री से ढाई हजार किमी की यात्रा करती हुई गंगासागर में समाती है। इस बीच करीब एक हजार छोटी-बड़ी नदियां गंगा […]

  • 020620148
    विश्व पर्यावरण दिवस -5जून   घातक है-प्लास्टिक का बढ़ता उपयोग ?
    Posted in: Uncategorized

    –डॉ. सुनील शर्मा- अगर हम कहें कि हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में सबसे ज्यादा भागीदारी प्लास्टिक की है, तो यह कहना गलत नहीं है। क्योंकि सुबह प्लास्टिक के ब्रश से शुरू हुई दिनचर्या प्लास्टिक के इर्दगिर्द ही घुमती रहती है। दूध,पानी खाने का सामान सब कुछ प्लास्टिक में ही पैक आता है। प्रश्न ये है […]

  • 020620149
    पर्यावरण
    Posted in: Uncategorized

    –शैलेन्द्र चौहान- जैसे-जैसे यह दुनिया अन्योन्याश्रितता (interdependence) की ओर बढ़ रही है वैसे-वैसे हमारा भविष्य और मजबूत तथा जोखिम भरा भी होता जा रहा है। यह सही है कि हम सब लोग इस दुनिया में मिलकर काम कर रहे हैं पर साथ ही साथ हम पर्यावरण के लिए खतरे भी पैदा कर रहे हैं। हमें […]

  • 0206201410
    प्रसव में जान गंवाती माताएं
    Posted in: Uncategorized

    –अरविंद जयतिलक- यह राहतकारी है कि देश में मातृ मृत्युदर में कमी आयी है। संयुक्त राष्ट्र की विश्व स्वास्थ्य संगठन की हालिया रिपोर्ट से उद्धाटित हुआ है कि वर्ष 1990 में गर्भधारण संबंधी जटिलताओं के कारण और प्रसव के दौरान तकरीबन 5,23,000 महिलाओं को जान गंवानी पड़ी जबकि 2013 में 2,89,000 महिलाओं की जान गयी […]

  • 0206201411
    शहरी प्रदूषण ही है अस्थमा का कारण
    Posted in: Uncategorized

    –डॉ. महेश परिमल- अभी कुछ दिनों पहले ही हमारे बहुत करीब से अस्थमा दिवस गुजरा। उस दिन बहुत से आयोजन हुए, जिसमें अस्थमा होने के कारण और उससे बचाव पर चर्चा की गई। यह एक परंपरा है, जिसे हम केवल दिवस मनाकर निभाते हैं। इस बीमारी के बारे में हम यह भूल जाते हैं कि […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in