Dalits

  • 11-religion-conversion2
    सिर्फ एक सियासी खेल है धर्मांतरण
    Posted in: धर्म, राजनीति

    – अशोक मिश्र – अगर देश की इतनी बड़ी आबादी में से लाख-दो लाख ईसाई या मुसलमान या फिर दोनों संप्रदाय के लोग अपना धर्म परिवर्तन करके हिंदू हो जाएं, तो उससे क्या हिंदू धर्म में कोई क्रांतिकारी परिवर्तन होने वाला है? जिस देश में साठ-सत्तर करोड़ से भी ज्यादा हिंदू रहते हों, उस देश […]

  • Untouchable
    छुआछूत का दानव अभी जिंदा है
    Posted in: दलित, समाज

    – राजीव कुमार यादव – इसे भारतीय लोकतंत्र के विकास के लिहाज से शर्मनाक ही माना जाएगा कि संविधान द्वारा छुआ-छूत को समाप्त किए हुए भले ही 64 साल बीत हो गए हों, लेकिन भारतीय समाज में यह अब भी बड़े पैमाने पर जिंदा है। नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) और अमेरिका की […]

  • dalits-mp-village_0705_630
    मध्यप्रदेश में दलितों के साथ भेदभाव किया जाता है
    Posted in: दलित, मध्य प्रदेश

    – एल.एस.हरदेनिया – मध्यप्रदेश में पिछड़ी जातियों, विशेषकर दलितों और आदिवासियों के साथ बड़े पैमाने पर भेदभाव किया जा रहा है। इस भेदभाव से दलित सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। पिछड़ी जातियों, विशेषकर दलितों के संरक्षण के लिए काम करने वाली एक संस्था ने दलितों, विशेषकर दलित बच्चों के साथ होने वाले भेदभाव के संबंध […]

  • 090620143
    एजेंडा सामाजिक न्याय पर खिलाड़ी संघ
    Posted in: सांप्रदायिकता

    – राजीव यादव – पिछले दिनों लखनऊ में हुई आरएसएस की अखिल भारतीय केन्द्रीय कार्यकारी मण्डल की बैठक के पूर्व ही कोर कमेटी में उसके परिवारी संगठनों की तरफ से आ रहे एजेंडों ने साफ कर दिया था कि वो दलितों-पिछड़ों के साथ युवाओं को खास तरजीह देंगे। इसे सिर्फ हिन्दुत्वादी छवि के साथ लगे […]

  • 061020145
    मनुवादी तंत्र में क्यों ढूंढ़े दलित गणतंत्र
    Posted in: समाज

    -राजीव यादव- बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के पिछले दिनों मधुबनी के एक मंदिर में पूजा करने के बाद मंदिर को धुलवाने के बाद इस बात पर बहस हो रही है कि मुख्यमंत्री छुआछूत के शिकार हो गए। वहीं यूपी में बसपा के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्या के यह कहने कि शादियों में […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in