Labour

  • An Indian farmer looks skyward as he sits in his field with wheat crop that was damaged in unseasonal rains and hailstorm at Darbeeji village, in the western Indian state of Rajasthan, Friday, March 20, 2015. Recent rainfall over large parts of northwest and central India has caused widespread damage to standing crops. (AP Photo/Deepak Sharma)
    भारत में किसानों की आत्महत्या – शैलेन्द्र चौहान
    Posted in: किसान, गरीबी, समाज

    भारत में किसानों की आत्महत्या —— शैलेन्द्र चौहान —— इक्कीसवी सदी का दूसरा दशक. यदि हम इस दशक पर दृष्टिपात करें तो  इस दशक में सदी की सबसे बड़ी घटना विकास दर के बजाय किसानों की आत्महत्या के दर में वृध्दि रही, और इससे बड़ा शर्मनाक पहलू यह है कि चुनावी मुद्दों की राजनीति में आकर्षण का केंद्र किसान है। […]

  • labour-day-may-day-2017
    मजदूरों के लिए विपरीत समय – जावेद अनीस
    Posted in: मजदूर

    मजदूरों के लिए विपरीत समय —– जावेद अनीस —— यह एक जटिल और कन्फ्यूज़्ड समय है, जहां बदलाव की गति इतनी तेज और व्यापक है कि उसे ठीक से दर्ज करना भी मुश्किल हो रहा है. पूरी दुनिया में एक खास तरह की बैचनी महसूस की जा रही है. पुराने मॉडल और मिथ टूट रहे […]

  • palayan-empl
    पूर्वांचल के पलायन पर चुप्पी क्यों? – हरे राम मिश्र
    Posted in: उत्तर प्रदेश

    पूर्वांचल के पलायन पर चुप्पी क्यों? —— हरे राम मिश्र —— कुछ दिन पहले की ही बात है जब मैं पलायन के पूरे परिदृश्य को समझने के लिए उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग यानि ’पूर्वांचल’ के जिलों में पलायन करने वाले कुछ श्रमिकों का ’इंटरव्यू’ कर रहा था। देवरिया जिले में जब मैं लोगों से […]

  • dubai-workers-GETTY
    इस शोषण पर मौन क्यों?
    Posted in: मजदूर

    —–हरे राम मिश्र—— पिछले दिनों मुझे उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ उन श्रमिकों के लंबे इंटरव्यू करने का मौका मिला जो रोजी-रोटी की तलाश और रोजगार के सिलसिले में परसियन गल्फ (खाड़ी देशों) में काम करने के लिए गए हुए थे और हाल ही में वापस लौटे थे। काम करने के लिए खाड़ी मुल्कों […]

  • labour
    श्रमिक विरोधी मोदी सरकार
    Posted in: मजदूर, सरकार

    —-जावेद अनीस—- असंगठित क्षेत्रों में काम कर रहे मजदूरों के लिए श्रम कानून पहले ही बेमानी हो चुके थे इधर  लेकिन “अच्छे दिनों’’ के नारे के साथ सत्ता में आई मोदी-सरकार के राज में तो संगठित क्षेत्र के मजदूरों की हालत भी बदतर हो गयी है, सत्ता में आते ही इस सरकार ने श्रम-कानूनों में […]

  • Skill Dev
    ‘इन झूठी योजनाओं से मत बहकाइए श्रीमान’
    Posted in: ग्रामीण भारत, समाज

    – हरे राम मिश्र – हाल ही में नरेन्द्र मोदी सरकार ने ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना’ की शुरुवात यह कहते हुए की कि इससे देश के ग्रामीण युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे उन्हें नौकरी मिलने में आसानी होगी। मोदी सरकार का दावा है कि इस प्रशिक्षण के बाद ग्रामीण युवाओं को नौकरी […]

  • Maruti
    यह संकट तो एक शुरुआत है
    Posted in: उद्योग जगत, न्यायपालिका, प्रशासन, मजदूर

    – रीना मिश्रा हरियाणा के मानेसर स्थित मारूती कारखाने में सवा दो साल पहले हुए हिंसक संघर्ष में जहां एक मैनेजर की मौत हो गई थी वहीं बड़े पैमाने पर कंपनी के अंदर तोड़-फोड़ और आगजनी भी हुई थी। इस पूरे मामले में जेल में बंद 148 मजदूरों को आज तक जमानत भी नही मिल […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in