Language

  • 287568-hindi
    कौन यहाँ हिन्दी का कर्जदार नहीं……. – डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’
    Posted in: विशेष

    कौन यहाँ हिन्दी का कर्जदार नहीं……. डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ माँ, मातृभूमि और मातृभाषा का कर्जदार राष्ट्र का प्रत्येक निवासी है, और इसी कारण ही राष्ट्रवासी अपने सेवा के भाव को जीवित रखते है।  हिंदी न केवल एक भाषा मात्र है बल्कि भारत की सांस्कृतिक अखंडता के परिचय का दूसरा नाम है। ‘एक राष्ट्र- एक […]

  • modi-nitish--1-647_070315034338
    कृपया चुनावी भाषणों को गालियों में तब्दील मत कीजिए
    Posted in: चुनाव

    ——शैलेन्द्र चौहान——- एक समय था जब नेता एक-दूसरे के प्रति शालीन भाषा का इस्तेमाल करते थे। वे इसका ख्याल रखते थे कि राजनीतिक बयानबाजी व्यक्तिगत आक्षेप के स्तर पर न आने पाए। उनकी ओर से ऐसी टिप्पणियों से बचा जाता था जो राजनीतिक माहौल में कटुता और वैमनस्य पैदा कर सकती थीं। दुर्भाग्य से आज […]

  • Discrimination
    भाषायी गुलामी केवल अंग्रेजी की ही नहीं
    Posted in: विशेष

    –वीरेन्द्र जैन– हम आये दिन भाषायी गुलामी का स्यापा यहाँ वहाँ सुनते रहते हैं व 14 सितम्बर के आस पास यह रूदन और तीव्र हो जाता है क्योंकि देश में सार्वजनिक क्षेत्र के संस्थान आने के बाद वहाँ प्रतिवर्ष यह आयोजन धन सम्मान आदि देकर कराया जाता है इसलिए रूदालों की एक राष्ट्रव्यापी टीम खड़ी […]

  • Sadhavia Niranjan Jyoti
    निरंजन ज्योति प्रकरण – भाषा की साम्प्रदायिकता के सवाल
    Posted in: राजनीति, सांप्रदायिकता

    – वीरेन्द्र जैन – केन्द्र सरकार की मंत्री सुश्री निरंजन ज्योति द्वारा दिल्ली में दिये गये भाषण के शब्दों पर जो हंगामा पैदा हुआ, उसे सरकार के प्रचारकों और समर्थकों द्वारा इस तरह से पेश किया गया जैसे दुनिया के सबसे बड़े देश की सरकार चलाना बच्चों का खेल हो और किसी नादान बच्चे द्वारा […]

  • 2209201412
    उर्दू से बैर कैसा ?
    Posted in: उत्तर प्रदेश, न्यायपालिका, सरकार

    – जाहिद खान – हमारे देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश में उर्दू को सरकारी कामकाज की दूसरी भाषा घोषित करने के फैसले को जायज ठहराया है। हाल ही में सुनाए अपने इस फैसले में उसने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकारी भाषा (संशोधन)कानून 1989संविधानसम्मत है। अदालत ने अपने इस फैसले में […]

  • Hindi Diwas
    हिन्दी दिवस-14 सितंबर “जनजन की भाषा बनती हिन्दी”
    Posted in: विशेष

    डा सुनील शर्मा भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू का कथन है कि- मुझे एक लंबे समय से यकीन रहा है और आज भी है कि भारत की आम जनता की वास्तिविक उन्नति और जन-जागरण अंग्रेजी के जरिये नहीं हो सकता है,आम  जनता के बीच संपर्क की भाषा अंग्रेजी नहीं हो सकती है। […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in