Terrorism

  • 1
    कश्मीर: शांति की जुस्तजू – राम पुनियानी
    Posted in: आंतंकवाद

    कश्मीर: शांति की जुस्तजू राम पुनियानी हालिया लोकसभा चुनाव में जबरदस्त बहुमत हासिल करने के बाद, मोदी सरकार मजबूती से देश पर शासन करने की स्थिति में है. ऐसा लगता है कि मोदी के बाद, सरकार में सबसे शक्तिशाली व्यक्ति गृहमंत्री अमित शाह हैं. ऐसा अपेक्षित है कि वे लम्बे समय से चली आ रही […]

  • 12
    वैश्विक आतंकवाद: बिगड़ रहे हैं हालात – राम पुनियानी
    Posted in: आंतंकवाद

    वैश्विक आतंकवाद: बिगड़ रहे हैं हालात राम पुनियानी वैश्विक आतंकवाद ने भयावह स्वरुप अख्तियार कर लिया है. 9/11 2001 से हालात बिगड़ने शुरू हुए और यह सिलसिला अब भी जारी है. ट्विन टावर्स पर हमले के बाद से, आतंकवाद को एक धर्म विशेष से जोड़ने की कवायद शुरू हो गयी और अमरीकी मीडिया ने ‘इस्लामिक […]

  • puli
    आतंकियों को खत्म करने के साथ ही बातचीत का रास्ता ही हल है कश्मीर का – राम पुनियानी
    Posted in: आंतंकवाद

    आतंकियों को खत्म करने के साथ ही बातचीत का रास्ता ही हल है कश्मीर का – राम पुनियानी जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में 49 सीआरपीएफ जवान शहीद हुए हैं। इस हमले में शहीदों की संख्या उरी हमले से कहीं ज्यादा थी। यह दोनों ही हमले पाकिस्तान आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम […]

  • 22thshujaat
    कश्मीर समस्या : समाधान क्या है ? – शैलेन्द्र चौहान
    Posted in: आंतंकवाद

    कश्मीर समस्या : समाधान क्या है ? शैलेन्द्र चौहान गत दिनों “राइज़िंग कश्मीर” के संपादक शुजात बुखारी की हत्या की निंदा सरकार, राजनीतिक दलों, लश्कर-ए-तैयबा और हिज्ब-उल-मुजाहिदीन आदि सभी पक्षों ने की है. सवाल उठता है कि फिर हत्या की किसने है. इसी के साथ अब यह सवाल भी उठता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी […]

  • 1
    क्या आतंकवाद को धर्म से जोड़ा जाना चाहिए? – राम पुनियानी
    Posted in: आंतंकवाद, विशेष

    क्या आतंकवाद को धर्म से जोड़ा जाना चाहिए? राम पुनियानी पूरे विश्व, और विशेषकर पश्चिम और दक्षिण एशिया, में भयावह आतंकी हमले होते आए हैं जिनमें सैकड़ों निर्दोष लोग मारे गए हैं। मुंबई पर 26/11/2008 को हुए आतंकी हमले में मारे गए लोगों में हिन्दू और मुसलमान दोनों ही शामिल थे। बेनजीर भुट्टो, आतंकियों की […]

  • 160930213147-kashmir-soldier-exlarge-169
    हिंसाग्रस्त कश्मीर और शांति की चाहत – राम पुनियानी
    Posted in: आंतंकवाद

    हिंसाग्रस्त कश्मीर और शांति की चाहत राम पुनियानी हरीभरी कश्मीर घाटी पर लंबे समय से खून के छींटे पड़ते रहे हैं – फिर चाहे वह खून अतिवादियों का हो, कश्मीरियों का, सुरक्षा बलों के सदस्यों का, और अब पर्यटकों का भी। हाल में घाटी में एक स्कूल बस पर पत्थर फेंके गए, जिसमें 11 साल […]

  • _86800302_paris1
    पेरिस हमलों पर पाखंड
    Posted in: आंतंकवाद

    पेरिस हमलों पर पाखंड –नेहा दभाड़े एवं इरफान इंजीनियर ‘‘एक बार फिर निर्दोष नागरिकों को आंतकित करने का बेरहम प्रयास हुआ है। यह हमला सिर्फ पेरिस पर नहीं है, यह हमला केवल पेरिस के लोगों पर नहीं है, यह हमला पूरी मानवता पर है और उन सभी वैश्विक मूल्यों पर है, जिनके हम साझीदार हैं।’’ […]

  • Paris
    आतंकवाद पर एक पूर्वाग्रह मुक्त दृष्टि से सोचना आवश्यक है
    Posted in: आंतंकवाद

    ———शैलेन्द्र चौहान——— आखिर आईएस उर्फ़ इस्लामिक स्टेट है क्या, किन कारणों से यह अस्तित्व में आया ? इस संगठन का प्रचलित नाम था आईएसआईएस अर्थात् ‘इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया’, इसके कई नाम हैं जैसे आईएसआईएल्, दाइश आदि। आईएसआईएस के नाम से इस संगठन का गठन अप्रैल 2013 में किया गया था। इब्राहिम अव्वद अल-बद्री उर्फ अबु बक्र अल-बगदादी […]

  • 9-11
    भुला दिये गये 9/11 के सबक!
    Posted in: आंतंकवाद

    ——कृष्ण प्रताप सिंह——– चैदह साल हो गये, लेकिन आज भी सोचें तो तन-मन सिहर उठते हंै! इक्कीसवीं शताब्दी के पहले ही साल के नवें महीने की ग्यारहवीं तारीख थी वह, जब कुख्यात अलकायदा ने सर्वशक्तिमान अमेरिका के समृद्धिशिखर वल्र्ड ट्रेड सेंटर पर भयावह हमले से सारी दुनिया को हिलाकर रख दिया था। युद्धों के अलावा […]

  • GURDASPUR-HT1
    शरीफ साहब! आतंक की जमीन पर शांति की फसल नहीं उगती
    Posted in: आंतंकवाद

    ——जगजीत शर्मा——– वैसे भारत में सांप को दूध पिलाने की परंपरा काफी पुरानी है। सावन के महीने में तो सांप को दूध पिलाने की कोशिश मान्यताओं को मानने वाला हर हिंदू करता है। इसके बावजूद आस्तीन में सांप पालना कोई नहीं चाहता है। आस्तीन में पलने वाले सांप काटते जरूर हैं। ‘आस्तीन में सांप पालनेÓ […]

  • terrorist
    बच्चों को आतंकी बनाने का खेल,खेलता पाकिस्तान
    Posted in: आंतंकवाद

    ——प्रमोद भार्गव——– इस्लाम के बहाने अपने ही बच्चों को आतंकवादी बनाने में पाकिस्तान जुटा दिख रहा है। मुबंई हमलों के जिंदा बचे गुनहगार अजमल कसाब के बाद आतंकवादी मोहम्मद नावेद उर्फ कासिम खान का जिंदा पकड़ा जाना इस तथ्य का पुख्ता सबूत है। नावेद ने पुलिस को दिए बयान में कबूला भी है कि उसने […]

  • police_647_072715064244
    कब तक बर्दाश्त करें आतंक के इस दंश को?
    Posted in: आंतंकवाद

    —–सिद्धार्थ शंकर गौतम—— 30 जुलाई को मुंबई बम धमाकों के आरोपी याकूब मेनन की प्रस्तावित फांसी, 26 जुलाई को कारगिल विजय का जश्न और सोमवार 27 जुलाई को तड़के पंजाब के गुरदासपुर जिले के दीनानगर पुलिस थाने पर आतंकी हमला; देखने पर ये तीनों घटनाएं भले ही अलग प्रतीत हों किन्तु इनके बीच समानता की […]

Humsamvet Features Service

News Feature Service based in Central India

E 183/4 Professors Colony Bhopal 462002

0755-4220064

editor@humsamvet.org.in